सौर कृषि आजीविका योजना 2024: ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया, फायदे और पात्रता

Saur Krishi Aajeevika Yojana: राजस्थान सरकार ने किसानों की आय को बढ़ाने के लिए एक नई योजना शुरू की है। SKAY, या सौर कृषि आजीविका योजना, इसका नाम है। इस योजना के तहत किसान अपनी बंजर और बेकार जमीन पर सोलर प्लांट लगा सकते हैं। 17 अक्टूबर 2022 को, ऊर्जा मंत्री भवन भवन सिंह भाटी ने राजस्थान में सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना की घोषणा की। राज्य सरकार ने सौर कृषि आजीविका योजना से जुड़ने के लिए एक पोर्टल बनाया है। जहां किसान अपने दस्तावेज अपलोड करके दान दे सकते हैं सोलर एनर्जी प्लांट बनाने वाले डेवलपरों से भी जुड़ सकते हैं।

हम आज इस लेख में आपको SKAY Yojana के बारे में बताएंगे ताकि आप भी अपनी बंजर जमीन पर सोलर प्लांट लगाकर अच्छा पैसा कमा सकें।

Saur Krishi Aajeevika Yojana (SKAY) 2024

राजस्थान सरकार ने विकेंद्रीकृत सौर ऊर्जा संयंत्रों को बढ़ावा देने के लिए सौर ऊर्जा आजीविका योजना, या “SKAY” योजना शुरू की है। Saur Krishi Aajeevika Yojana के अंतर्गत सरकार किसानों की बंजर और गैर-उपयोगी जमीन को लीज पर लेकर सौर ऊर्जा संयंत्र बनाएगी। सरकार किसानों की गैर-उपयोगी बंजर जमीन का किराया देगी, इससे किसानों की आय बढ़ेगी। इसके अलावा, सौर कृषि आजीविका योजना के माध्यम से सिंचाई के माध्यम से आय बढ़ाने का अवसर बिजली वाले किसानों को मिलेगा, जिसके लिए सरकार ने एक पोर्टल बनाया है। राज्य के किसान जो अपनी जमीन पट्टे पर देना चाहते हैं, इस पोर्टल का उपयोग कर सकते हैं। किसानों की बंजर भूमि सरकार की ओर से किराया दी जाएगी। इसके माध्यम से किसान बंजर और बेकार जमीन पर सोलर प्लांट लगाकर लाभ कमा सकते हैं। किसान इस योजना से अधिक पैसे कमा सकते हैं।

किसानों को सिंचाई के माध्यम से पैसा कमाने का भी अवसर मिलेगा। कृषि आजीविका योजना का पोर्टल, www.skayrajasthan.org.in, किसानों और विकासकर्ताओं को सहायक बनाता है। इस पोर्टल पर, राज्य के इच्छुक किसान अपनी बंजर या गैर-उपयोगी जमीन को लीज पर देने के लिए पंजीकरण कर सकते हैं। विकासकर्ता पोर्टल पर किसानों द्वारा दी गई जमीन का विवरण देख सकते हैं।

राजस्थान सौर कृषि आजीविका योजना 2024 का विवरण

योजना का नाम Saur Krishi Aajeevika Yojana
शुरुआत की गई राजस्थान सरकार द्वारा
लाभार्थी: राज्य का कोई भी भूमि मालिक या किसान
लक्ष्य: बंजर भूमि को लीज या किराए पर देकर राज्य की प्रचुर भूमि
सामग्री का उपयोग करना
साल 2024
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन
अधिकारिक वेबसाइट https://www.skayrajasthan.org.in/

Saur Krishi Aajeevika Yojana का उद्देश्य क्या है?

सौर कृषि आजीविका योजना का उद्देश्य किसानों को सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना के लिए बंजर भूमि को लीज या किराए पर देने का अवसर देना है, जिससे राज्य के अच्छे भूमि संसाधनों का उपयोग होगा। इसके लिए राजस्थान डिस्कॉम्स ने एक वेब पोर्टल बनाया है। किसान इस पोर्टल पर अपनी जमीन को लीज पर देने के लिए पंजीकृत कर सकते हैं, ताकि वे ऊर्जा संयंत्र बना सकें। और सौर ऊर्जा संयंत्र के विकासकर्ता पंजीकृत किसानों से संपर्क कर सकते हैं। जिससे किसानों को लाभ मिलेगा। तथा उनकी आय बढ़ेगी।

इस योजना के तहत स्थापित होने वाले सौर ऊर्जा संयंत्र से उत्पादित बिजली आसपास के क्षेत्र के लोगों को ही दी जाएगी, जिन्होंने दिन भर कृषि कार्य करने के लिए पर्याप्त बिजली पाने की सुविधा मिलेगी। किसानों की बंजर जमीन का अधिकतम लाभ मिलेगा।

सौर कृषि आजीविका योजना 2024 Update Launch Details

योजना के तहत स्थापित सौर ऊर्जा संयंत्रों से उत्पादित बिजली दिन के उजाले के दौरान कृषि कार्यों के लिए पर्याप्त होगी, यह पहल सुनिश्चित करती है। किसानों द्वारा कम उपयोग की गई बंजर भूमि को एक उत्पादक उद्देश्य मिलता है।17 अक्टूबर 2022 को राजस्थान में ऊर्जा मंत्री भवन सिंह भाटी ने सौर कृषि आजीविका योजना का उद्घाटन किया। योजना का लक्ष्य राज्य भर में नवीकरणीय ऊर्जा संसाधनों का दोहन करने के लिए सौर ऊर्जा संयंत्रों का निर्माण करना है।

सौर कृषि आजीविका योजना 2024 Update Plan Details

SKAY योजना के तहत किसान अपनी बंजर या गैर-उपयोगी जमीन को सरकार को पट्टे पर दे सकते हैं। बाद में, सरकार भूमि का किराया देकर किसानों को पहले से उपयोग की जा चुकी भूमि से पैसा कमाने का मौका देगी।

सौर कृषि आजीविका योजना (2024 अपडेट) से किसानों को मिलने वाले लाभ

SKAY योजना के तहत किसान अपनी बंजर या गैर-उपयोगी जमीन को सरकार को पट्टे पर दे सकते हैं। बाद में, सरकार भूमि का किराया देकर किसानों को पहले से उपयोग की जा चुकी भूमि से पैसा कमाने का मौका देगी। भाग लेने वाले किसानों को न केवल किराये की आय मिलती है बल्कि सिंचाई के लिए बिजली मिलती है। किसानों की आर्थिक संभावनाएं इस दोहरी फायदे से बढ़ती हैं और यह टिकाऊ कृषि प्रणालियों में भी योगदान देता है।

सौर कृषि आजीविका योजना 2024 Update Plan तक पहुँचना

राज्य सरकार ने www.skayrajasthan.org.in नामक एक पोर्टल बनाया है जो लोगों को अधिक से अधिक भाग लेने की अनुमति देता है। किसान जो अपनी जमीन को पट्टे पर देना चाहते हैं, इस प्लेटफॉर्म पर पंजीकरण करके आवश्यक दस्तावेज अपलोड कर सकते हैं। पोर्टल के माध्यम से, सौर ऊर्जा संयंत्र बनाने के इच्छुक डेवलपर्स उपलब्ध भूमि सूची भी देख सकते हैं।

सोलर पावर प्लांट की लागत

किसानों को सौर कृषि आजीविका योजना के तहत सोलर प्लांट लगाने के लिए 1180 रुपए का पंजीकरण शुल्क देना होगा। इसके अलावा, सौर ऊर्जा संयंत्र के विकासकर्ता को पंजीकरण शुल्क 5900 रुपए देना होगा। जब दोनों पक्षों की ओर से भुगतान और दस्तावेज़ प्रस्तुत किए जाएंगे। तभी डिस्कॉम ने आवेदन की जांच करके जमीन की पुष्टि की जाएगी। किसानों और डेवलपर्स की समस्याओं को हल करने के लिए जल्द ही डिस्कॉम स्तर पर एक डेडीकेट हेल्प डेस्क बनाया जाएगा।

सोलर पावर प्लांट के लिए अनुदान


3 किलोवाट की क्षमता वाले सोलर पैनल लगाना चाहने वाले नागरिकों को 40% सब्सिडी डिस्कॉम मिलेगा। जब कोई नागरिक 3 किलोवाट से 10 किलोवाट की क्षमता वाले सोलर पैनल बनाता है, तो उसे 20% सब्सिडी मिलती है। सौर कृषि आजीविका योजना के तहत पीएम कुसुम योजना के तहत सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना करने के लिए डेवलपर को तीस प्रतिशत की लागत दी जाएगी। राज्य सरकार भी दोनों को जोखिम से बचाने के लिए जमीन मालिक किसान विकासकर्ता और संबंधित कंपनी या डिस्कॉम के बीच त्रिपक्षीय समझौता करेगी। जिससे जोखिम से सुरक्षा, सौर ऊर्जा उत्पादन, कम प्रदूषण और किसानों की आय दोगुनी होगी।

किसानों ने SKAY Portal पर पंजीकरण कराया

विकासकर्ताओं और किसानों ने इस योजना के शुभारंभ से ही उत्साहजनक प्रतिक्रिया दी है। अब तक 34621 से अधिक लोगों ने इस पोर्टल पर प्रवेश किया है। सौर कृषि ऊर्जा योजना के तहत 7217 किसानों ने पोर्टल पर अपनी बंजर जमीन पर सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना करने का अनुरोध किया है। पोर्टल पर लगभग 753 सौर ऊर्जा संयंत्र विकासकर्ताओं ने भी पंजीकरण कराया है।

पोर्टल पर निर्धारित फीस भी अब तक चौदह किसानों और चौदह विकासकर्ताओं ने जमा कर दी है। जयपुर और अलवर जिले के किसानों ने सौर कृषि आजीविका योजना में अधिक उत्साह दिखाया है, जैसा कि समीक्षा बैठक में बताया गया है। इसमें से तीन किसानों ने अलवर जिले में और सात किसानों ने जयपुर जिले में निर्धारित शुल्क देकर अपनी जमीन को पंजीकृत कराया है। पोर्टल पर जमीन के दस्तावेज भी अपलोड किए गए हैं। GST के लिए डिस्कॉम अधिकारियों द्वारा भूमि के सत्यापन के बाद जल्द ही टेंडर जारी करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

सौर कृषि आजीविका योजना 2024 अपडेट: स्काई पोर्टल पर पंजीकृत किसान

योजना के शुरू होने के बाद से डेवलपर्स और किसानों से अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। 34,621 से अधिक लोगों ने पोर्टल का उपयोग किया है, जिसमें 7,217 किसानों ने अपनी बंजर जमीन पर सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने के लिए पंजीकरण कराया है। इसके अलावा, लगभग 753 सौर ऊर्जा संयंत्र बनाने वाले भी पोर्टल से जुड़े हुए हैं।

सौर कृषि आजीविका योजना 2024 Update नामांकन मानदंड

किसानों और डेवलपर्स को आधिकारिक वेबसाइट पर पंजीकरण करना होगा, ताकि वे सौर कृषि आजीविका योजना से लाभ उठाने सकें। भूमि मालिकों, व्यक्तिगत किसानों, किसान समूहों, पंजीकृत सहकारी समितियों, संघ संस्थानों और संगठनों को योग्य प्रतिभागियों माना जाता है। राज्य में पंजीकरण के लिए पात्र कोई भी किसान या भूस्वामी है जो कम से कम एक हेक्टेयर जमीन रखता है, बशर्ते जमीन सबस्टेशन के 5 किलोमीटर के दायरे में हो। पोर्टल पर पंजीकरण करने के लिए नामांकित व्यक्ति को भूमि मालिकों या किसानों को आवश्यक शक्ति देना होगा।

सौर कृषि आजीविका योजना 2024 Update: Solar Energy Plants Subsidies

सौर कृषि आजीविका योजना, पीएम कुसुम योजना के माध्यम से सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना के लिए डेवलपर्स को कुल खर्च का ३० प्रतिशत अनुदान देती है। राज्य सरकार भी जोखिम सुरक्षा सुनिश्चित करने और सौर ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए भूमि मालिक, किसान, डेवलपर और संबंधित डिस्कॉम या कंपनी के बीच त्रिपक्षीय अनुबंध की सुविधा प्रदान करती है।

Saur Krishi Aajeevika Yojana के महत्वपूर्ण मुद्दे

Saur Krishi Aajeevika Yojana (SKAY) का लाभ लेना चाहने वाले राज्य के किसानों और डेवलपर्स को इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर पंजीकरण करना होगा।
राज्य के पंजीकृत सहकारी समितियां, संगठन, संघ संस्थान, किसानों के समूह, आदि भी इस योजना में शामिल हो सकते हैं।
किसानों और डेवलपर्स को सौर कृषि आजीविका योजना का लाभ उठाने के लिए वेबसाइट पर पंजीकरण करना आवश्यक है।
सौर कृषि आजीविका योजना से जुड़ सकते हैं भूमि मालिक, किसान, किसानों के समूह, पंजीकृत सहकारी समितियां, संगठन और संघ संस्थान।
राज्य का कोई भी किसान या जमीन मालिक कम से कम 1 हेक्टेयर की जमीन को लीज या किराए पर देने के लिए पंजीकरण करा सकता है।
रजिस्टर्ड बंजर की अनुपयोगी जमीन सब स्टेशन से पांच किलोमीटर की दूरी पर होनी चाहिए।
इस योजना के नियमों के अनुसार, किसानों या जमीन मालिकों को किसी नामांकित व्यक्ति के पक्ष में उचित मुख्तारनामा देना होगा। क्योंकि पोर्टल में पंजीकरण करने के लिए एक मुख्तारनामा अपलोड करना होगा|
आवेदकों को गैर-वापसी योग्य पंजीकरण शुल्क का भुगतान ऑनलाइन करना होगा।

सौर कृषि आजीविका योजना के फायदे और विशेषताएं|

ऊर्जा मंत्री भवन भवन सिंह भाटी ने 17 अक्टूबर 2022 को राजस्थान में सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना की घोषणा की।
सौर कृषि आजीविका योजना से किसानों को हर दिन बिजली मिलेगी।
किसानों को बंजर या गैर-उपयोगी जमीन को लीज करके अतिरिक्त आय अर्जित करने का अवसर मिलेगा।
विकासकर्ता राज् य भर में किसान भूमि मलिकों के संपर्क विवरण सहित उपलब्ध भूमि तक पहुंचेंगे।
राज्य में सस्ती ऊर्जा की उपलब्धता से बिजली की खरीद, वितरण और व्यावसायिक क्षति में कमी आएगी।
इस योजना के माध्यम से पीएम कुसुम योजना के घटक ए से वितरित सौर पावर प्लांट की क्षमता या इसकी स्थापना स्थान पर कोई बाध्यता नहीं होगी।
उपभोक्ता के पास अधिक बिजली उत्पादन और खपत होने के कारण विद्युत वितरण ढांचे और वितरण हानि में भी कमी आएगी।
सरकार किसानों की बंजर भूमि को उपयोग नहीं करेगी।
इसके माध्यम से किसान अपनी बंजर और बेकार जमीन पर सोलर प्लांट लगाकर लाभ कमा सकते हैं।
सिंचाई करने से किसानों को बिजली के साथ ही पैसा कमाने का अवसर भी मिलेगा।

सौर कृषि आजीविका योजना के लिए योग्यता

आवेदक को सौर कृषि आजीविका योजना का लाभ लेने के लिए राजस्थान राज्य का स्थाई निवासी होना चाहिए।
इस योजना के तहत राज्य का कोई भी किसान या भूमि मालिक आवेदन कर सकता है।
सौर कृषि आजीविका योजना के लिए सौर ऊर्जा संयंत्र बनाने वाले पात्र होंगे।
राज्य के नागरिकों को इस योजना का लाभ मिलेगा अगर उनके पास बंजर जमीन होगी।

सौर कृषि आजीविका योजना में आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची

आधार कार्ड
निवास प्रमाण पत्र
भूमि स्वामित्व प्रमाण पत्र
खेत की खतौनी के कागजात
बैंक पासबुक
पासपोर्ट साइज फोटो
मोबाइल नंबर


Saur Krishi Aajeevika Yojana में पंजीकृत होने की प्रक्रिया

पहले Saur Krishi Aajeevika Yojana की आधिकारिक website देखें।
तब आप वेबसाइट का मुखपृष्ठ देखेंगे।
आपको होम पेज के फॉर्मल लॉगइन सेक्शन में Register Here के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
आप एक नए पेज पर क्लिक करेंगे।
आपको इस पेज पर अपना मोबाइल नंबर, पूरा नाम और यूजर टाइप दर्ज करना होगा।
अब आपको प्रस्तुत पर क्लिक करना होगा।
इसके बाद एक नया भेद खुल जाएगा, जहां एक एप्लीकेशन फॉर्म दिखाई देगा।
आपको इस आवेदन फॉर्म में अपनी जमीन के बारे में सभी जानकारी देनी होगी।
विवरण देने के बाद आपको ऑनलाइन पंजीकरण शुल्क भुगतान करना होगा।
इसके बाद आपको सभी विवरणों को अच्छी तरह से चेक करने के बाद सबमिट पर क्लिक करना होगा।

SKAY Portal में लॉगइन करने का तरीका

पहले आपको Saur Krishi Aajeevika Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
तब आपको वेबसाइट का मुखपृष्ठ दिखाई देगा।
होम पेज पर, आपको Farmer Login पर क्लिक करना होगा।
तब लॉगइन पेज आपके सामने खुल जाएगा।
इस page पर अपना यूजर आईडी और पासवर्ड दर्ज करना होगा।
अब आपको प्रविष्ट करने का विकल्प चुनना होगा।
इस तरह आप सौर कृषि आजीविका योजना में शामिल हो सकते हैं।

प्रश्नोत्तर राजस्थान सौर कृषि आजीविका योजना 2023

Saur Krishi Aajeevika Yojana क्या है?
अगर आप जानना चाहते हैं कि “सौर कृषि आजीविका योजना क्या है”, तो आपको बता दें कि राजस्थान ऊर्जा मंत्री भवन सिंह भाटी जी ने 17 अक्टूबर 2022 को “सौर कृषि आजीविका योजना” का उद्घाटन किया था।राजस्थान राज्य के किसान इससे अपनी बंजर जमीन पर ऊर्जा उपकरण लगा सकते हैं।

Saur Krishi Aajeevika Yojana का क्या प्रयोजन है?
आजीविका योजना का लक्ष्य बंजर भूमि को लीज देकर राज्य के प्रचुर भूमि संसाधन का उपयोग करना है।

सौर कृषि आजीविका योजना का उद्घाटन कब हुआ?
7 अक्टूबर 2022 को सौर कृषि आजीविका योजना शुरू हुई।

Saur Krishi Aajeevika Yojana मदद फोन नंबर क्या है?
Saur Krishi Aajeevika Yojana का मदद फोन नंबर 01452641208, 0141-2209533, 09413359042 है।

सौर कृषि आजीविका योजना का वैध वेबसाइट क्या है?
सौर कृषि आजीविका योजना का वेबसाइट URL निम्नलिखित है: https://www.skayrajasthan.org.in।

क्या राजस्थान में ही सौर कृषि आजीविका योजना (SKAY) लागू है?
हां, योजना के तरीके केवल “राजस्थान” राज्य पर लागू होंगे, जो राजस्थान डिस्कॉम के संचालन क्षेत्र में आता है। जेवीवीएनएल, एवीवीएनएल और जेडीवीवीएनएल

राजस्थान सौर कृषि आजीविका योजना के तहत लाभार्थी को कितनी धनराशि दी जाएगी?
यदि कोई नागरिक सरकार को अपनी जमीन पर सोलर पैनल लगाने की अनुमति देता है, तो उसे प्रति वर्ष 80,000 से 1,60,000 रुपए का किराया दिया जाएगा। किराया भूमि के आधार पर निर्धारित किया जाएगा।

Saur Krishi Aajeevika Yojana का मूल लक्ष्य क्या है?
राज्य के लोगों को आय कमाने के नए अवसर देकर उनकी आर्थिक मदद करना। बंजर भूमि को उपयोग में लेकर सौर ऊर्जा संयंत्र का निर्माण करके किसानों को दिन भर बिजली उपलब्ध कराना|

राजस्थान सौर कृषि आजीविका योजना का आधिकारिक वेबसाइट क्या है?
Skayrajasthan.org राजस्थान सौर कृषि आजीविका योजना का आधिकारिक वेबसाइट है।

Table of Contents

Leave a Comment